मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2022: लाभ एवं उद्देश्य | Mukhymantri Bal Gopal Yojana

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2022 | राजस्थान मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना | Rajasthan mid day meal | milk for children in Rajasthan government school | मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2022 का लाभ एवं उद्देश्य | milk in mid day meal | CM balgopal Yojana | Rajasthan government policy | mukhymantri Bal Gopal Yojana

नमस्कार दोस्तों, राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों को आवश्यक पोषण युक्त भोजन न मिल पाने की वजह से उनमें कुपोषण की समस्या पाई जाती है। प्राइमरी विद्यालय में पढ़ रहे बालकों मे ये समस्या ज्यादा पाई जाती है। पर्याप्त पोषण मिल सके बच्चों को इसके लिए मिड-डे-मील जैसी योजना भी पहले से चालू है, इसके बाद भी बच्चों में एनीमिया, कैल्शियम की कमी जैसी बीमारियां पाई जाती हैं। इसलिए राजस्थान की सरकार ने बजट 2022-23 में मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2022 की शुरुआत की है।

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के द्वारा कक्षा 1 से 8वीं तक के बच्चों को नि:शुल्क दूध दिया जाएगा। आगे इस लेख में आप जानेंगे कि मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना क्या है, इसके उद्देश्य क्या है, इसकी विशेषताएं क्या हैं, क्रियान्वयन कैसे होगा आदि तो आपसे निवेदन है कि आप इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

यह भी पढ़ें- सेफ सिटी योजना 2022

Bal Gopal Yojana 2022

राजस्थान सरकार द्वारा बजट 2022-23 मे घोषित बाल गोपाल योजना को मंजूरी दे दी गई है। मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2022 के माध्यम से कक्षा एक से आठवीं तक के बच्चों को मिड डे मील के साथ दूध उपलब्ध कराया जाएगा। यह दूध सप्ताह में दो दिन अर्थात मंगलवार और शुक्रवार को हि दिया जाएगा। कक्षा 1 से 5 तक के विद्यार्थियों के लिए 150 मिलीलीटर दूध एवं कक्षा 6 से 8 तक के विद्यार्थियों के लिए 200 मिलीलीटर दूध पीने का इंतजाम किया जाएगा।

Mukhymantri Bal Gopal Yojana के तहत राजस्थान के लगभग 60 लाख बच्चों को लाभ मिलेगा। इस योजना के तहत नए शैक्षिक सत्र से बच्चों के लिए दूध का प्रबंध किया जाएगा। मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2022 के अंतर्गत मिड डे मील से संबंधित राज्य स्कूल, प्राइमरी स्कूल, मदरसों, विशेष प्रशिक्षण केंद्रों में पाउडर वाला दूध उपलब्ध कराया जाएगा।

यह भी पढ़ें- पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन स्कीम 2022

Mukhymantri Bal Gopal Yojana Motive

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2022 का मुख्य उद्देश्य कक्षा 1 से 8वीं तक के विद्यार्थियों को पोषण प्रदान करने के लिए दूध उपलब्ध कराया जाएगा, जिससे बच्चों का शारीरिक एवं मानसिक विकास होगा एवं वह तरह-तरह की बीमारियों से भी दूर रहेंगे। राजस्थान मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना का उद्देश्य यह भी है कि विद्यालयों में बच्चों की उपस्थिति में भी सुधार आ सकता है तथा विद्यालयों में उनका नामांकन भी बढ़ेगा तथा बच्चों को पोषण युक्त दूध प्राप्त होने से उनका स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा।

यह भी पढ़ें- निषादराज बोट सब्सिडी योजना 2022

Mukhymantri Bal Gopal Yojana Benefits & Charactristics

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के लाभ एवं विशेषताएं निम्नलिखित हैं-

  • Mukhyamantri Bal Gopal Scheme के तहत कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को सप्ताह में 2 बार यानि कि मंगलवार एवं शुक्रवार को पाउडर का दूध उपलब्ध कराया जाएगा। अगर इन दोनों दिन किसी कारणवश अवकाश हुआ तो उसके अगले दिन दूध दिया जाएगा।
  • इस योजना के तहत मिल्क पाउडर को खरीदने के लिए राजस्थान कोऑपरेटिव डेरी फेडरेशन के साथ सरकार का करार हुआ है।
  • मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2022 में मिड डे मील की मदद से पाउडर का दूध हर जिले में बांटा जाएगा तथा आरसीडीएफ द्वारा पाउडर मिल्क का वितरण प्रत्येक स्कूल में जाकर किया जाएगा।
  • बच्चों को दूध उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी विद्यालय प्रबंधन की होगी तथा दूध की गुणवत्ता को मापने की जिम्मेदारी आरसीडीएफ तथा स्कूल प्रबंधन की होगी।
  • बाल गोपाल योजना का लाभ प्राप्त कर बच्चे हष्ट पुष्ट तथा मानसिक एवं शारीरिक रूप से मजबूत रहेंगे।
  • राजस्थान बाल गोपाल योजना से बच्चे स्कूलों में प्रवेश लेने के लिए आकर्षित होंगे, जिससे उनको अच्छी शिक्षा भी मिलेगी और ग्रहण करने की क्षमता में सुधार भी होगा एवं ग्रामीण इलाकों में साक्षरता दर बढ़ाने में भी मदद मिलेगी।

Mukhymantri Bal Gopal Yojana Key Points

SchemeMukhymantri Bal Gopal Yojana 2022
MotiveTo provide nutrition food to kids
BenefitTo get rid of Malnutrition
LaunchBy Rajasthan Government
Year2022
BeneficiaryKids of 1st to 8th class

Mukhymantri Bal Gopal Yojana Implementation

बाल गोपाल योजना का क्रियान्वयन कैसे किया जाएगा। यह शिक्षा विभाग के मुख्य सचिव श्री पवन कुमार गोयल द्वारा बताया गया कि इस योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए राज्य स्तर पर मिड डे मील आयुक्त को जिम्मेदारी दी गई है। इसी तरह जिला स्तर पर जिला अधिकारी, ब्लॉक स्तर पर शिक्षा अधिकारी को दूध के वितरण को सुनिश्चित करना होगा। मिल्क पाउडर वितरण की विद्यालय प्रबंधन जिम्मेदारी होगी। ये सभी लोग मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना को मॉनिटर करेंगे कि इसका संचालन किस प्रकार हो रहा है।

यह भी पढ़ें- सीएम सारथी योजना 2022

Wrapping Up

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2022 का मूल्यांकन करने के बाद कह सकते है कि ये योजना राजस्थान के बच्चों के पोषण में सुधार लाने एवं उनके शारीरिक तथा मानसिक विकास में भी काफी सहायता प्रदान करेगी। राजस्थान बाल गोपाल योजना के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन होने से स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति में भी सुधार आएगा, जिससे राज्य स्कूलों के बच्चे भी अच्छे से शिक्षा प्राप्त कर सकेंगे।

दोस्तों, अगर आपको मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2022 की ये जानकारी अच्छी लगी तो आप इसे अपने दोस्तों एवं जरूरतमंद के साथ अवश्य शेयर करें, एवं उन्हें इस योजना के लाभ लेने के लिए प्रेरित करे तथा इसी प्रकार की अन्य महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी के लिए नोटिफिकेशन बटन को जरूर दबाएं।

यह भी पढ़ें-

अग्निपथ भर्ती योजना 2022

राजीव गांधी स्कॉलरशिप योजना 2022

गांव की बेटी योजना 2022

FAQ-

प्रश्न- Mukhymantri Bal Gopal Yojana 2022 क्या है?
उत्तर- Bal Gopal Yojana के तहत स्कूल के बच्चों को पोषण प्रदान करने हेतु दूध उपलब्ध कराया जाएगा।

प्रश्न- Mukhymantri Bal Gopal Yojana में क्या मिलेगा?
उत्तर- इस योजना के तहत कक्षा 1 से 8वीं तक के बच्चों को नि:शुल्क दूध उपलब्ध कराया जाएगा। कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों को 150 मिलीलीटर तथा 5 से कक्षा 8 तक के बच्चों को 200 मिलीलीटर दूध प्रदान किया जाएगा।

प्रश्न- Mukhymantri Bal Gopal Yojana के अंतर्गत कितने वर्ष तक के बच्चों को दूध मिलेगा?
उत्तर- कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को दूध दिया जाएगा।

प्रश्न- Bal Gopal Yojana मे सप्ताह में कितने दिन दूध मिलेगा?
उत्तर- इस योजना के अंतर्गत सप्ताह में 2 दिन अर्थात मंगलवार और शुक्रवार को दूध दिया जाएगा।

9 thoughts on “मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2022: लाभ एवं उद्देश्य | Mukhymantri Bal Gopal Yojana”

Leave a Comment